शीर्षक 06 – मेरी छत

1.

( JAGAD GURU SHANKARACHARYA KO NAMAN KARTE HUE : ~~ )
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
AHAM BRAHMASMEE [ Mera Prayas : Lavanya ]
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
Aseem ananta, vyom yehee to Meri chhat hai !
Samaheet Tattva sare, Nirgun ka sthayee aawas -
Haree bhuree Dhartee, vistarit, chaturdik,
Yahee to hai bichona, jo deta mujhe visharam !
Her disha mera aavran , pawan abhushan -
Her GHAR mera jahan path mud jata svatah: mera!
Pathik hoon, path per her dag kee padchap ,
vikal mera her shwaas tumse, aashraya maangta !
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-Lavanya Shah - Date: Mon Mar 27, 2006 3:35 am
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

2.

छुट गई पीछे
मेरी छत
इस शहर से कोसों दूर
सुदूर मेरे गांव में
जिसके नीचे
न जाने कितने
मधुर यादें पले हैं मेरे
गोधुलि की वेला में
अपने हमजोली के साथ
चिडियों के कलरव के बीच
कल्पना के नाव पर
विचरन करता हुआ
मेरा बचपन
कितने आशियाने बना डाले
अपने ख्वाबों के
अपनापन क अहसास था
उन सबों में
लगता था बस यही दुनियां है
छलप्रपंच, धोखाधडी विहीन
लेकिन महानगर के
इस छत के नीचे
उन्ही बातों का समावेश है
जिनकी कल्पना
मेरा कोमल मन
शायद कर नहीं पाया
कि पग पग पर
पीठ पीछे
पैर खींचने वालों की
तादाद है यहां
अपनत्व की तो बात दूर
यह सोचना भी गुनाह है
इसलिए फिर से
वही जाने की चाह है
उसी छत के नीचे
जो वास्तव में
मेरी छत है
इस शहर से दूर
सुदूर मेरे गांव में

---------------------------- निर्भीक प्रकाश- Date: Tue Mar 28, 2006 2:03 pm

3.

मेरी छत
वहाँ से शुरु होती है
जहाँ से तुम्हारी
ज़मीन
खत्म होती है

रौशनी का
एक गोल टुकडा
बरस जाता है
किरणे बुन लेती हैं
अपनी दीवार

और हमारा घर
धूप ,साये, परिंदो
और बादल से
होड लगाता
झूम जाता है
हमारी आँखों में

---------------------------- प्रत्यक्षा सिन्हा - Date: Tue Mar 28, 2006 12:33 pm

4.

समझ के बाहर है
खेल मन की सियासत का,
मन की सोच का जंगल भी
किसी सियासत से कम नहीं,
कभी तो ताने बाने बुनकर
एक घरौंदा बना लेती है
जहां उसका अस्तित्व
आश्रय पा जाता है,
या, कहीं फिर
अपनी ही असाधारण सोच
के नुकीलेपन से
अपना आशियां उजाड़ देती है.
होश आता है
उस बेहोश सोच को
जब लगता है उसे
पांव तले धरती नहीं
और वो छत भी नहीं
जो एक चुनरी की तरह
ढांप लेती है मान सन्मान.
मन की सियासत! उफ!!
यह सोच भी शतरंज की तरह
बिछ जाती है
जहां उसूलों की पोटली भर कर
एक तरफ रख देते हैं हम
और सियासत के दाइरे में
पांव पसार लेते है,
जहां पहनावा तो नसीब होता है
पर छत नहीं.
हां! वो स्वाभिमान को
महफूज़ रखने वाली छत,
वो ज़मीर को जिंदा रखकर
जीवन प्रदान करने वाली छत,
जिसकी छत्र छाया में
सच पलता है
हां! सच सांस लेता है.

---------------------------- देवी नागरानी - Date: Tue Mar 28, 2006 11:13 pm

5.

मेरे दो चित्र:

आखिर क्यूँ
-----------
//१//

क्यूँ बिछडा संबध
ध्वनि तरंग बन
स्पंदित कर
रक्त धारा को छूता है

मेरी छत के नीचे
दीवारों के अजनबी
सायों के बीच
जब कोई और नही होता
तब यही अहसास
मुझे हर पल होता है.


//२//

सूरज क्यूँ इतना तपता है
मेरा अंग अंग सब जलता है
पहले सा सूरज लगता है
पर कितनी तेज चमकता है.

मेरी छत न जाने कहाँ गई
छांव पाने को दिल मचलता है
माँ! तू जबसे दूजे जहां गई
ये घर बिन छत का लगता है.

---------------------------- समीर लाल - Date: Wed Mar 29, 2006 7:10 am

6.

कभी कभी इच्छा होती है,
अपनें पाँवो के नीचे की
जमीन को खिसका कर
वहाँ तक ले आँऊ
जहाँ से तुम्हारी छत
शुरु होती है ।

वो जमीन
जिस पर मेरे पाँव
अब भी टिके हुए हैं
और जिस पर हम नें
मिल कर ख्वाब देखे थे,

वो हसीन ख्वाब आज भी
अगरबत्ती की तरह सुलग रहे है,
पता नहीं खुशबु
तुम्हारी छत तक
पहुँची या नहीं ?

---------------------------- अनूप भार्गव - Date: Wed Mar 29, 2006 5:46 am

7.

मेरे सिरहाने लगी
जो जमीन है
उसे ही तुमने छत कहा
हाँ
जो मेरे सर पर है
वह तुम्हारे पांवोंके नीचे
और जब वह नीचे है
मेरे सर के
बनकर सिरहाना
वह तब भी
तुम्हारे पाँव तले है
तुम ठीक ही
मेरी छत को
अपने पांव की जमीन कहते हो
और अब मैं
ढूँढ़ रही हूँ
छत का अर्थ

---------------------------- मैत्रेयी अनुरूपा - Date: Wed Mar 29, 2006 11:26 pm

8.

निगाहों से मेरी वो ढूंढो मेरी छत
अरे कोई ढूंढो मेरी छत, मेरी छत.

चली जाने कैसी विदूषित हवाएं
उड़ा के चली वो मेरी छत, मेरी छत.

पनाह पा रहा था जो दामन वहीं पर
उड़ा के चली वो मेरी छत, मेरी छत.

अहसास से जो बुने ताने बाने
उठाके चली वो मेरी छत, मेरी छत.

पलकों पे अश्कों के मोती बिखेरे
बहाके चली वो मेरी छत, मेरी छत.

कहते सुना देवी हम सब है भाई
हां! मैके चली वो मेरी छत, मेरी छत.

---------------------------- देवी नागरानी - Date: Sat Apr 1, 2006 2:32 am

9.

jag bauna hai
sapney oonchey
meri chhat ke neechey
sab jhoothey hain
sapney sachhey
meri chhat ke neechey

din andhiyaaley
raatein ujali
meri chhat ke neechey
sawan bin badal
bin bijali
meri chhat ke neechey

jab tum aatey
dhar gin-gin pag
meri chhat ke neechey
tum sang banata
surabhit pag-mag
meri chhat ke neechey

preet bhara mann
thodi an-ban
meri chhat ke neechey
maadak madhu bin
bauraye mann
meri chhat ke neechey

virahakul ki
kaatar chitwan
meri chhat ke neechey
abhisaar ras
gupchup gopan
meri chhat ke neechey

seemit ghadiyaan
amit laalasa
meri chhat ke neechey
laghutam jeewan
gurutam asha
meri chhat ke neechey

chand shabd mein
vyaapak antar
meri chhat ke neechey
kala sarovar
kavita nirjhar
meri chhat ke neechey

itna kuchh
kaise sim-ta hai
meri chhat ke neechey
nishchit koi
kavi bas-ta hai
meri chhat ke neechey

---------------------------- Jaya Pathak - Date: Tue Apr 4, 2006 3:35 pm

10.

"ये सब हुआ'

प्रकृति का प्यार पला
मेरी छत के नीचे।
उस प्यार ने सींचे
छोटे-छोटे फूल
मेरी छत के नीचे।
आंगन खिलने लगा
बहार छाने लगी
बयार चलने लगी
मेरी छत के नीचे।
बच्चे हंसने लगे
फुदकने लगे
पंछी गाने लगे
मेरी छत के नीचे।
अपना असर देखकर
हैरान था,चकित था प्यार
हां, ये सब हुआ
मेरी छत के नीचे।

---------------------------- मधु अरोरा - Date: Fri Apr 7, 2006 7:07 pm

11.

Meri chhat ke neeche
kamaron ke batware huye
ek - ek kamaron ki banayi gayi
chhadm pehchan
sabake liye gadhi gayi
chhadm paribhasayen.......!

Meri chhat ke neeche
jal ke shrot vibhakta huye
un vibhajit shroto mein
laal rang bhi ghule
un shroto ki raksha ke liye
gathit huyi senayen.......!

Meri chhat ke neeche
malik murt roop mein puje gaye
malik ko awaz lagayi
malik ki prarthna huyi
alag alag guton mein
alag alag chole odhkar.....!

Meri chhat ke neeche
har kamaron mein
hawaon mein tyoharon ke rang ghule
bachchon ki kilkariyan uthi
maa-shishu sa sambadh ubhara
kamaron ki seemaon se upar uthkar....!

Meri chhat ke neeche
dhara awak hai
ye sab dekhkar........!

---------------------------- Shyam Jha - Date: Tue Apr 11, 2006 10:17 am







3 Comments:

  1. आशीष said...
    प्रयास सराहेनीय है लेकिन एक गुजारीश है। सभी कविताओं को देवनागरी मे ही प्रकाशीत करने की कोशीश करें।
    जब इतनी मेहनत हो ही रही है तो थोडी मेहनत और सही ।
    अंतर्मन | Inner Voice said...
    निर्भीक प्रकाश की कविता बहुत अच्छी लगि..बाकी सभी कविताएं भी अच्छी हैं।
    Yogesh said...
    Meri Chhat ke niche - Good lines. Its good, someone start writing after so long time. Its better she keeps writing. Atleast it gives a solace that some vibrations are there, some creativity existing...

Post a Comment